ADVERTISEMENT

Tulsidas Ka Janm Kab Hua Tha (तुलसीदास का जन्म कब हुआ था) – 2022

ADVERTISEMENT

Tulsidas Ka Janm Kab Hua Tha – नमस्कार दोस्तों आपका हमारे एक और नए पोस्ट पर स्वागत है जहा आज इस पोस्ट के माध्यम से “तुलसीदास का जन्म कब हुआ था” के बारे में बताने जा रहे है जहा यदि आप भी तुलसीदास जी के बारे में और अधिक जानना चाहते है तब आप एक दम सही पोस्ट पर आये है जहा पर आज आपको तुलसीदास जी के बारे में सभी तरह की जानकारी देने जा रहे है।

ADVERTISEMENT

वैसे यदि हम भारत में देखे तो एक से बढ़कर एक रचनाकार हुए उन्ही में से एक थे तुलसीदास जी जिन्होंने अपने जीवन कल को ईश्वर की भक्ति में लगा दिया और इसी के साथ साथ उन्होंने कई कृतियों की रचना भी की जिनमे से उनकी सुप्रसिद्ध रचना रामायण है जो की आज के समय में काफी लोगो के द्वारा पढ़ी जाती है और समय समय पर इनके द्वारा लिखी रामायण का पाठ किया जाता है। इनके द्वारा लिखित रामायण को रामचरितमानस कहा जाता है जो की अपने आप में एक गौरव ग्रन्थ है।

ADVERTISEMENT

Tulsidas Ka Janm Kab Hua Tha (तुलसीदास का जन्म कब हुआ था)

Tulsidas Ka Janm Kab Hua Tha

तुलसीदास जी का जन्म 15 Aug 1532 को हुआ था और इनका पूरा नाम गोस्वामी तुसलीदास था इनका जन्म स्थल राजापुर था और इनका निधन अस्सी घाट वाराणसी में 31 July 1623 को हुआ था। इनके पिता का नाम आत्माराम दुबे और माता का नाम हुलसी दुबे था और इनके एक पुत्र भी थे जिनका नाम तारक था।

ADVERTISEMENT

तुलसी दास का जन्म कब और कहा हुआ था?

तुलसीदास का जन्म 15 Aug 1532 को राजापुर में हुआ था

ADVERTISEMENT

तुलसीदास की कुल कितनी रचना है?

गीतावली (1571), कृष्ण-गीतावली (1571), रामचरितमानस (1574), पार्वती-मंगल (1582), विनय-पत्रिका (1582), जानकी-मंगल (1582), रामललानहछू (1582), दोहावली (1583),वैराग्यसंदीपनी (1612), रामाज्ञाप्रश्न (1612), सतसई, बरवै रामायण (1612), कवितावली (1612),हनुमान बाहुक

ADVERTISEMENT

और अन्य रचनाये

ADVERTISEMENT

  • रामचरितमानस
  • रामललानहछू
  • वैराग्य-संदीपनी
  • बरवै रामायण
  • पार्वती-मंगल
  • जानकी-मंगल
  • रामाज्ञाप्रश्न
  • दोहावली
  • कवितावली
  • गीतावली
  • श्रीकृष्ण-गीतावली
  • विनय-पत्रिका
  • सतसई
  • छंदावली रामायण
  • कुंडलिया रामायण
  • राम शलाका
  • संकट मोचन
  • करखा रामायण
  • रोला रामायण
  • झूलना
  • छप्पय रामायण
  • कवित्त रामायण
  • कलिधर्माधर्म निरूपण
  • हनुमान चालीसा

तुलसी जी के माता पिता का क्या नाम था?

तुलसीदास जी के पिता जी का नाम आत्माराम दुबे और माता का नाम हुलसी दुबे था

ADVERTISEMENT

गोस्वामी तुलसीदास जी की जयंती कब है?

तुलसीदास जयंती 04 अगस्त को मनाई जाती है

ADVERTISEMENT

तुलसी की मृत्यु कब हुई?

तुलसीदास जी की मृत्यु 31 July 1623 को हुई थी

ADVERTISEMENT

भगवान श्री राम जी से भेंट

कुछ काल राजापुर रहने के बाद वे पुन: काशी चले गये और वहाँ की जनता को राम-कथा सुनाने लगे। कथा के दौरान उन्हें एक दिन मनुष्य के वेष में एक प्रेत मिला, जिसने उन्हें हनुमान ‌जी का पता बतलाया। हनुमान ‌जी से मिलकर तुलसीदास ने उनसे श्रीरघुनाथजी का दर्शन कराने की प्रार्थना की। हनुमान्‌जी ने कहा- “तुम्हें चित्रकूट में रघुनाथजी दर्शन होंगें।” इस पर तुलसीदास जी चित्रकूट की ओर चल पड़े।

ADVERTISEMENT

चित्रकूट पहुँच कर उन्होंने रामघाट पर अपना आसन जमाया। एक दिन वे प्रदक्षिणा करने निकले ही थे कि यकायक मार्ग में उन्हें श्रीराम के दर्शन हुए। उन्होंने देखा कि दो बड़े ही सुन्दर राजकुमार घोड़ों पर सवार होकर धनुष-बाण लिये जा रहे हैं। तुलसीदास उन्हें देखकर आकर्षित तो हुए, परन्तु उन्हें पहचान न सके। तभी पीछे से हनुमान जी ने आकर जब उन्हें सारा भेद बताया तो वे पश्चाताप करने लगे। इस पर हनुमान जी ने उन्हें सात्वना दी और कहा प्रातःकाल फिर दर्शन होंगे।

ADVERTISEMENT

संवत्‌ 1607 की मौनी अमावस्या को बुधवार के दिन उनके सामने भगवान श्रीराम भगवान श्री राम जी पुनः प्रकट हुए। उन्होंने बालक रूप में आकर तुलसीदास से कहा-“बाबा! हमें चन्दन चाहिये क्या आप हमें चन्दन दे सकते हैं?” हनुमान ‌जी ने सोचा, कहीं वे इस बार भी धोखा न खा जायें, इसलिये उन्होंने तोते का रूप धारण करके यह दोहा कहा:

ADVERTISEMENT

चित्रकूट के घाट पर, भइ सन्तन की भीर। तुलसिदास चन्दन घिसें, तिलक देत रघुबीर॥

ADVERTISEMENT

तुलसीदास भगवान श्री राम जी की उस अद्भुत छवि को निहार कर अपने शरीर की सुध-बुध ही भूल गये। अन्ततोगत्वा भगवान ने स्वयं अपने हाथ से चन्दन लेकर अपने तथा तुलसीदास जी के मस्तक पर लगाया और अन्तर्ध्यान हो गये।

ADVERTISEMENT

सफलता के बारे में तुलसीदास गोस्वामी के ये 5 दोहे

1- तुलसी साथी विपत्ति के, विद्या विनय विवेक। साहस सुकृति सुसत्यव्रत, राम भरोसे एक।
तुलसीदास जी कहते हैं कि किसी भी विपदा से यह 7 गुण आपको बचाएंगे- 1:विद्या 2: विनय, 3:विवेक, 4:साहस, 5:आपके भले कर्म, 6: सत्यनिष्ठा और 7:भगवान के प्रति आपका विश्वास।

2-सूर समर करनी करहिं कहि न जनावहिं आपु। बिद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु।
बहादुर व्यक्ति अपनी वीरता युद्ध के मैदान में शत्रु के सामने युद्ध लड़कर दिखाते हैं और कायर व्यक्ति लड़कर नहीं बल्कि अपनी बातों से ही वीरता दिखाते
हैं।

3-आवत ही हरषै नहीं नैनन नहीं सनेह। तुलसी तहां न जाइये कंचन बरसे मेह।
जिस समूह में शिरकत होने से वहां के लोग आपसे खुश नहीं होते और वहां लोगों की नजरों में आपके लिए प्रेम या स्नेह नहीं है, तो ऐसे स्थान या समूह
में हमें कभी शिरकत नहीं करना चाहिए, भले ही वहां स्वर्ण बरस रहा हो।

4- तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुं ओर। बसीकरन इक मंत्र है परिहरू बचन कठोर।
तुलसीदास जी कहते हैं कि मधुर वाणी सभी ओर सुख का वातावरण पैदा करती हैं। यह हर किसी को अपनी और सम्मोहित करने का यही एक कारगर मंत्र है इसलिए हमें कटु वाणी त्याग कर मधुरता से बातचीत करना चाहिए।

5- तुलसी भरोसे राम के, निर्भय हो के सोए। अनहोनी होनी नही, होनी हो सो होए।
तुलसीदास कहते हैं, भगवान पर भरोसा करें और किसी भी भय के बिना शांति से सोइए। कुछ भी अनावश्यक नहीं होगा, और अगर कुछ अनिष्ट घटना ही
है तो वो घटकर ही रहेगी इसलिए बेकार की चिंता और उलझन को छोड़कर मस्त रहना चाहिए।

अंतिम शब्द

आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको हमने Tulsidas Ka Janm Kab Hua Tha के बारे में जानकारी दी है जहा मुझे उम्मीद है आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी काफी पसंद आयी होगी इसी के साथ यदि इस पोस्ट में आपको किसी भी जानकारी से सम्बंधित त्रुटि लगती है तब आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स के माध्यम से कमेंट कर के बता सकते हैं हम उसमे सुधर करने की कोशिस करेंगे।

ADVERTISEMENT

इसी के साथ यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तब आप सोशल मीडिया के माध्यम से इस पोस्ट को अपने परिचित व्यक्तियों के साथ साझा कर सकते है और इस पोस्ट से सम्बंधित या फिर तुलसीदास जी से सम्बंधित किसी भी तरह का कोई सवाल है या फिर सुझाव है तब आप हमें कमेंट कर के बता सकते है हम जल्दी आपके कमेंट पब्लिश करेंगे।

ADVERTISEMENT