Advertisement

Swar Ke Kitne Bhed Hote Hain (स्वर के कितने भेद होते हैं ?)

Advertisement

Swar Ke Kitne Bhed Hote Hain – जैसा की आप जानते है हम भारत में रहते है और हिंदी हमारी मातृभाषा है अब ऐसे मैं यदि हम ये भी नहीं जानते है की Swar Ke Kitne Bhed Hote Hain तो शायद हमारे लिए यह बहुत बुरी बात हो सकती है तो दोस्तों आज इस पोस्ट के माध्यम से हम इसी बात के बारे में बात करने वाले है आखिर स्वर के कितने भेद होते है तो चलिए बिना किसी देरी के पोस्ट को शुरू करते है जिससे आपको भी जानकारी मिल पाए।

Swar Ke Kitne Bhed Hote Hain (स्वर के कितने भेद होते हैं ?)

swar ke kitne bhed hote hai

पहले के समय की बात की जाए तो हिंदी की वर्णमाला में पुरे कुल स्वरों की संख्या 14 होती थी परन्तु अभी के समय में जितने स्वर हिंदी भाषा में उपयोग किये जाते है वह ये सभी है अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ – ऋ, लृ और लृृृृ। और इसके अलावा जो मुख्या रूप से उपयोग में आने वाले स्वर जो जिनकी कुल संख्या 11 हैं जो की इस प्रकार है अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ और औ हैं।

स्वर कितने प्रकार के होते हैं?

यदि हम अब स्वर के सभी प्रकारो की बात करे तो स्वर के मुख्या तीन प्रकार होते है जो की निम्नलिखित है। जिनके बारे में मेने नीचे बताया है

  • हृस्व स्वर अथवा एक मात्रिक स्वर।
  • दीर्घ स्वर अथवा द्विमात्रिक स्वर।
  • प्लुत स्वर अथवा त्रिमात्रिक स्वर।

इन सभी स्वर के बारे में हम नीचे विस्तार से जानने की कोशिस करेंगे

Advertisement

ह्स्व स्वर (एक मात्रिक स्वर)

जिन स्वर को बोलने में काफी कम समय लगता है उन सभी स्वर को हम हृस्व स्वर कहते है या फिर इन्हे हम मैट्रिक स्वर भी कहते है। जो की नीचे टेबल कम दिए है आज वह से देख सकते है। यह पुरे हिंदी स्वरों में केवल चार ही होते है।

दीर्घ स्वर (द्विमात्रिक स्वर)

इनके अंतर्गत आने वाले सभी स्वरों में बोलते समय हमारे ह्रदय से आवाज़ आती है यब फिर बोलने में समय लगता है इन्हे ही दीर्घ स्वर कहते है अब इन सभी स्वरों में 2 मात्रा होती है इसलिए इन्हे द्विमात्रिक स्वर कहते है यदि हम इनकी कुल संख्या की बात करे तो इनकी संख्या सात होती है।

प्लुत स्वर (त्रिमात्रिक स्वर)

हिंदी स्वरों में जितने भी स्वर आते है इनमे से जिन्हे बोलते समय ऊपर के दोनों स्वर हृस्व स्वर और दीर्घ स्वरसे भी बहुत ज्यादा समय लगता है उन्हें ही प्लुप्त स्वर कहते है यही कारन है की त्रिमासिक स्वर कहते है। इनकी मात्रा की बात करे तो किसी भी तरह की कोई इनमे निश्चित मात्रा नहीं होती है।

अंतिम शब्द

आज मेने आपको मेरे इस पोस्ट के साथ बताया है की आखिर “Swar Ke Kitne Bhed Hote Hain” और मुझे उम्मीद है आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी काफी पसंद भी आयी होगी यदि आप का हमारे इस पोस्ट से सम्बंधित किसी तरह का कोई सुझाव है या फिर सवाल है तब आप हमें कँनेट के माध्यम से बता सकते है।

Advertisement

Leave a Comment

Advertisement