ADVERTISEMENT

Duniya Ka Sabse Jhuta Pradhan Mantri Kaun Hai (दुनिया का सबसे प्रधान मंत्री कौन है) – 2022

ADVERTISEMENT

दुनिया का सबसे झूठा प्रधानमंत्री कौन है यह सवाल यदि आपके मन में आया हुआ और आप भी जानना चाहते है दुनिया के सबसे झूठे प्रधानमंत्री के बारे में तब आपको हम इस पोस्ट के माध्यम से जानकारी देने जा रहा है ताकि आपको सभी जानकारी प्राप्त हो सके।

ADVERTISEMENT

वैसे दुनिया में बहुत सारे देश है और उनमें से बहुत सारे देश में आपको प्रधानमंत्री देखने को मिलते है। तो इन सभी प्रधान मंत्रियों में से दुनिया का सबसे झूठा प्रधान मंत्री देखे तो हमे बहुत सारे आंकड़े देखने पड़ेंगे जिससे आपको भी पता चल सके की आखिर सबसे झूठा प्रधान मंत्री कौन है और सबसे अच्छा प्रधानमंत्री कौन है।

ADVERTISEMENT

दुनिया का सबसे झूठा प्रधानमंत्री कौन है

तो दुनिया का सबसे झूठा प्रधानमंत्री चीन में है जो की अपनी बातो से बदल जाते है। और बोलते कुछ और है करते कुछ और है अब इसे में दुनिया के सबसे झूठे प्रधानमंत्री की लिस्ट में हमारे देश भारत के भी प्रधान मंत्री शामिल है।

ADVERTISEMENT

परंतु यह बात बस एक कल्पना मात्र है क्युकी हमारे देश के प्रधानमंत्री बिल्कुल भी झूठे नही है।

ADVERTISEMENT

हमारे देश के प्रधानमंत्री जो भी बात बोलते है या जो भी वादा करते है उसे पूरा करते है और निभाते है। और जब से यह प्रधानमंत्री बने है तब से लेकर आज हमारा भारत देश बहुत आगे बढ़ चुका है।

ADVERTISEMENT

अब यदि फिर भी कुछ नरेंद्र मोदी जी के विरोधी यही बोलेंगे की नरेंद्र मोदी एक झूठे प्रधानमंत्री है। जो की बिल्कुल गलत है।

ADVERTISEMENT

यदि अब हम पाकिस्तान के प्रधान मंत्री की बात करे तो शायद मुझे नही लगता की आपको पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के बारे में जानकारी देने की जरूरत है। इसीलिए में हमारे इस पोस्ट में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बारे में कोई बात ही नही करना चाहता हु।

ADVERTISEMENT

वैसे हर देश का प्रधानमंत्री कोई भी हो कैसा भी हो वह अपने देश के बारे में थोड़ी तो चिंता रखता ही है। क्युकी प्रधानमंत्री अच्छा हुआ तो देश भी आगे बढ़ता ही है। और देश के आगे बढ़ने से प्रधानमंत्री का नाम भी आगे आता है जो की एक अच्छी बात होती है।

ADVERTISEMENT

नरेंद्र मोदी के बारे में कुछ अन्य जानकारी

नरेंद्र मोदी भारतीय शहर वडनगर में पले-बढ़े, जो एक सड़क व्यापारी के बेटे थे। उन्होंने एक युवा के रूप में राजनीति में प्रवेश किया और एक हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक दल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के रैंकों के माध्यम से तेजी से उठे।

ADVERTISEMENT

मोदी 1987 में भारतीय जनता पार्टी की मुख्यधारा में शामिल हुए, अंततः राष्ट्रीय सचिव बने। 2014 में भारत के प्रधान मंत्री चुने गए, उन्होंने पांच साल बाद पद के लिए फिर से चुनाव अर्जित किया।

ADVERTISEMENT

पृष्ठभूमि

ADVERTISEMENT


नरेंद्र मोदी का जन्म भारत के उत्तरी गुजरात के छोटे से शहर वडनगर में हुआ था। उनके पिता एक सड़क
व्यापारी थे जिन्होंने परिवार का समर्थन करने के लिए संघर्ष किया। युवा नरेंद्र और उनके भाई ने मदद के लिए बस टर्मिनल के पास चाय बेची।

ADVERTISEMENT

हालांकि स्कूल में एक औसत छात्र, मोदी पुस्तकालय में घंटों बिताते थे और एक मजबूत बहस करने वाले के रूप में जाने जाते थे। अपनी शुरुआती किशोरावस्था में, वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), एक हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक दल, की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हो गए।

मोदी ने 18 साल की उम्र में अरेंज मैरिज की थी लेकिन अपनी दुल्हन के साथ बहुत कम समय बिताया। अंततः दोनों अलग हो गए, मोदी ने कुछ समय के लिए अविवाहित होने का दावा किया।

ADVERTISEMENT

प्रारंभिक राजनीतिक कैरियर

ADVERTISEMENT


मोदी ने अपना जीवन गुजरात में राजनीति के लिए समर्पित कर दिया, 1971 में आरएसएस में शामिल हो गए। 1975-77 के राजनीतिक संकट के दौरान, प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने आरएसएस जैसे राजनीतिक संगठनों पर प्रतिबंध लगाते हुए, आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी।

ADVERTISEMENT

मोदी भूमिगत हो गए और एक किताब लिखी, संघर्ष मा गुजरात (आपातकाल में गुजरात), जो एक राजनीतिक भगोड़े के रूप में उनके अनुभवों का वर्णन करता है। उन्होंने 1978 में दिल्ली विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की, और 1983 में गुजरात विश्वविद्यालय में अपना मास्टर कार्य पूरा किया।

1987 में, नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए, जो हिंदू राष्ट्रवाद के लिए खड़ी थी। रैंकों के माध्यम से उनका उदय तेजी से हुआ, क्योंकि उन्होंने अपने करियर को आगे बढ़ाने के लिए बुद्धिमानी से सलाहकारों को चुना।

ADVERTISEMENT

उन्होंने व्यवसायों, छोटी सरकार और हिंदू मूल्यों के निजीकरण को बढ़ावा दिया। 1995 में, मोदी को भाजपा का राष्ट्रीय सचिव चुना गया, इस पद से उन्होंने आंतरिक नेतृत्व के विवादों को सुलझाने में सफलतापूर्वक मदद की, जिससे 1998 में भाजपा की चुनावी जीत का मार्ग प्रशस्त हुआ।

ADVERTISEMENT

और अंत में

आज आपको मेने हमारे इस पोस्ट के माध्यम से Duniya Ke Sabse Jhute Pradhan Mantri Kaun Hai के बारे में जानकारी दी है। जिससे आपको यह तो स्पष्ट हो गया होगा की आखिर इस बात में कितनी सच्चाई है।

ADVERTISEMENT

इसी के साथ यदि आपका हमारे इस पोस्ट से संबंधित किसी तरह का कोई सवाल है या कोई सुझाव है तब आप हमे नीचे कमेंट बॉक्स में अपने विचार व्यक्त कर सकते है।

ADVERTISEMENT

Leave a Comment