ADVERTISEMENT

Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees – आखिर कितनी है फीस सम्पूर्ण जानकारी 2022

ADVERTISEMENT

Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees in hindi: नमस्कार दोस्तों आपका हमारे ब्लॉग पर स्वागत है जहा आज आपको हम इस पोस्ट के माध्यम से Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees के बारे में जानकारी देने जा रहे है जहा आप भी यदि अनिरुद्धाचार्य जी महाराज का सानिद्ध्य चाहते है तब आपको इनकी फीस के बारे में और क्या क्या प्रक्रियाएं होती है के बारे में जानना चाहिए जिससे की आपके लिए काफी आसान हो जाए।

ADVERTISEMENT

Aniruddhacharya Ji Maharaj एक बहुत ही प्रसीद्ध महाराज है जहा आज आपको इनके वीडियो यूट्यूब पर भी देखने को मिल जायेंगे यदि आप इन्हे यूट्यूब वीडियो देखर कर महाराज जी से काफी प्रभावित है तब आप को इनके बारे में और अधिक जानकारी होना चाहिए तो मैं आज आपको इस पोस्ट के माध्यम से सभी जानकारी इस पोस्ट में देने जा रहा हु जहा आप को मेरे द्वारा दी गई जानकारी काफी पसंद आएगी

ADVERTISEMENT

Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees कितनी है

Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees

आज के समय में बहुत सारे बाबाओं के द्वारा प्रवचन दिए जाते हैं परंतु उनमें से बहुत ही कम बाबा ऐसे होते हैं जो काफी प्रसिद्ध हो पाते हैं परंतु यहां अनिरुद्ध आचार्य काफी ज्यादा प्रचलित महाराज में से एक है और जहां तक हमने पता लगाया है तो इनकी एक बार सानिध्य करने की कोशिश हैजो फीस है वह ₹700000 से लेकर ₹800000 तक है

ADVERTISEMENT

हाला की फीस और दक्षिणा में अंतर होता है क्योंकि यदि आप किसी स्कूल या कॉलेज में पढ़ते थे तब जाकर आप वहां चीज देते हैं तो फिर आपको उतना ही देना होता है जितना एक संस्था के द्वारा ठहराया जाता है परंतु दक्षिणा का अर्थ यह होता है कि आप अपनी मर्जी से कितनी भी दक्षिणा एक साधु बाबा को दे सकते हैं

ADVERTISEMENT

अब अनिरुद्ध आचार्य महाराज की दक्षिणा की बात हम करें तो यह भी काफी ज्यादा है अनिरुद्ध अचार्य महाराज जी का यूट्यूब चैनल भी है जहां पर यह अपनी प्रवचन देती हुई वीडियो को साझा करते हैं ताकि इनके भक्तगण इन के प्रवचन को देख सकें और महाराज जी को सुनने का अवसर प्राप्त कर सकें अब यहां यूटुब यूट्यूब चैनल की बात आती है तो आप कको शायद पता नहीं होगा कि यूट्यूब वीडियो अपलोड कर के भी पैसे कमाए जाते हैं जहां यदि आप भी अपना चैनल शुरू करते हैं तो आप भी पैसे कमा सकते हैं।

ADVERTISEMENT

यूट्यूब प्रसारण पर सुनने वाले अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी के भक्त गण काफी ज्यादा है इसी कारण से इनके चैनल पर काफी ज्यादा व्यूज जाते हैं और यूट्यूब के माध्यम से भी इनकी अच्छी कमाई हो जाती है मैं यहां पर यह बिल्कुल भी नहीं कह रहा हूं की अि अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी कोई खराब व्यक्ति हैं या फिर यह पैसों का लालच करते हैं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है

ADVERTISEMENT

यदि आप अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी को नहीं जानते और ना ही आपने इनके कभी प्रवचन सुनने का अवसर प्राप्त किया है तब आप इनके यूट्यूब चैनल पर जाकर इनके द्वारा दिए गए सभी कथाओं को सुन सकते हैं तब जाकर आपको अनिरुद्ध महाराज जी का जो पूरा ब्योरा हैौरा है वह समझ आ जाएगा।

ADVERTISEMENT

अनिरुद्धचार्य महाराज जी के बारे में अन्य जानकारी

पूरा नाम Sri Aniruddhacharya ji Maharaj
निक नामअनिरुद्ध
पेशा कहानी पढ़ना
पिता का नाम (पिता का नाम )श्री अवधेशानंद गिरी जो ( भागवताचार्य)
आयु 32 साल ( 2022 )
जन्मस्थान Damoh (Rinvjha Village) 
जन्म तिथि 27 सितंबर 1989
धर्म हिंदू
शिक्षकShri Girraj Shastri Ji Maharaj
नींवगौरी गोपाल वृद्धाश्रम आश्रम
स्कूल      ज्ञात नहीं
कॉलेजज्ञात नहीं
जाति (जाति)ज्ञात नहीं
पत्नी पत्नी का नाम (वैवाहिक स्थिति/पत्नी)विवाहित
बच्चे (पुत्र का नाम)ज्ञात नहीं है
शिक्षाज्ञात नहीं
निवास ( गृहनगर)वृंदावन
ऊंचाई5.9 इंच 173 सेमी
वजन68 किग्रा
कुल मूल्य4 से 5 करोड़
यूट्यूब चैनलयहां क्लिक करें
instagramयहां क्लिक करें
फेसबुकयहां क्लिक करें
ट्विटरयहां क्लिक करें

जो लोग बिल्कुल भी नहीं जानती अनिरुद्ध महाराज जी के प्रवचन कहां कहां तक होते हैं तो उन्हें मैं बताना चाहता हूं अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी के प्रवचन भारत के बाहर भी विदेशों में होते हैं जहां पर विदेशी भक्तगण भी इन्हें काफी पसंद करते हैं और इनकी कथाओं को सुनते हैं इसी के साथ विदेश में जो हिंदू भाई बहन रहते हैं वह भी अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी को सुनने के लिए बड़े ही आतुर रहते हैं

ADVERTISEMENT

अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी एक बहुत ही सिद्धांत वादी महाराज हैं और उन्होंने बचपन से ही आध्यात्मिक मार्ग को चुन लिया था जहां आध्यात्मिक मार्ग को सुनने का प्रोत्साहन इनके माता-पिता द्वारा ही इन्हें दिया गया था बचपन में ही इन्होंने हनुमान चालीसा को पूरी तरह से कंठस्थ कर लिया था

ADVERTISEMENT

इसी के साथ रामचरितमानस वेद उपनिषद इत्यादि का भी महाराज जी ने पठन कर इन्होने कंठस्थ कर लिया था जहां से इन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और आध्यात्मिक मार्ग में लीन होने के भी बहुत सारे मार्ग मिले इन्होंने अपना घर छोड़कर वृंदावन रहना उचित समझा जैसा कि आप जानते हैं वृंदावन काफी ज्यादा पवित्र और श्री कृष्ण जी के भूमि है अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी वही रहे और वहां रहकर अपने आध्यात्मिक मार्ग की ओर जाने के लिए प्रयासरत रहे।

ADVERTISEMENT

महाराज जी ने वृंदावन में ही अपनी पढ़ाई को पूरा किया और राज शास्त्री महाराज जी इनके गुरु हुए जिन्होंने इन्हें सनातन धर्म की उपयोगिता और महत्व समझाएं इसी के साथ आध्यात्मिक मार्ग में जाने के लिए काफी सहायता की और अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी की बात की जाए तो वृंदावन से ही इन्हें अपने जीवन का मुख्य लक्ष्य समझ आया जहां अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी का लक्ष्य यह है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को सही मार्ग दिखाया जाए वह चाहे किसी भी धर्म वर्ण से हो इसी के साथ सनातन धर्म को किस तरह से आगे ले जाया जाए।

ADVERTISEMENT

यह मैं आपसे एक बात और कहना चाहता हूं भारतवर्ष में आज के समय में बहुत सारे लोगों के द्वारा हिंदू धर्म कहा जाता है जो हिंदू है वह अपने धर्म को हिंदू धर्म बताते हैं परंतु मैं यहां आपसे यह कहना चाहता हूं हिंदू धर्म कहना कोई गलत बात नहीं है परंतु वास्तविक में हमारा धर्म सनातन धर्म है यानी कि हम सनातन धर्म से संबंध रखते हैं और सनातन धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म माना जाता है

ADVERTISEMENT

जैसे-जै जैसे आप सनातन धर्म के बारे में पढ़ते चले जाएंगे तब आपको सनातन धर्म के बारे में बहुत ही ज्यादा रोचक जानकारियां प्राप्त होने लगेगी और सनातन धर्म में ही अध्यात्म को प्राप्त करने का व्याख्या पूर्ण मार्ग बताया है जिसके माध्यम से कोई भी जीव या प्राणी आध्यात्म को प्राप्त कर सकता है और परमात्मा में लीन हो सकता है।

ADVERTISEMENT

आज के समय में बहुत सारे बाबा आपको ऐसे मिल जाएंगे जोकि केवल अंधविश्वास फैलाने का काम करते हैं और लोगों को लूटते हैं इसके अलावा और भी अन्य गलत काम करते हैं परंतु दुनिया के सामने है अच्छा बनने का स्वांग करते हैं परंतु आपको बता दूं सभी साधु और बाबा लोग इस तरह के नहीं होते हैं जो सच्चे धर्म गुरु होते हैं वह अपने मार्ग को कभी भी नहीं छोड़ते है।

ADVERTISEMENT

अनिरुद्ध आचार्य जी का जन्म कब हुआ

महाराज जी का जन्म 27 सितंबर 1989 को हुआ था इनका जन्म मध्य प्रदेश राज्य के जबलपुर जिले में हुआ था अभी तक इन्होंने पूरे भारतवर्ष में 500 से भी ज्यादा कथाएं संपन्न की है और इनके द्वारा वृद्ध लोगों की सेवा के लिए और गौ माता की सेवा के लिए आश्रम बनाए गए हैं।

ADVERTISEMENT

Aniruddhacharya जी के परिवार के बारे में जानकारी

महाराज जी का परिवार बहुत ही छोटा और साधारण सा परिवार है यहां यह खुशी-खुशी अपने परिवार में रहते हैं उनके पिताजी मंदिर में पुजारी का कार्य किया करते थे अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी अपने परिवार के सबसे बड़े बेटे हैं और पूरे परिवार में 6 व्यक्ति है।

ADVERTISEMENT

महाराज जी शादीशुदा है और उनकी पत्नी भी है जिन्हें सामान्य तौर पर लोगों के द्वारा गुरु मां कहकर संबोधित किया जाता है इसके अलावा गुरु मां भी भक्ति भाव और प्रवचन देने का कार्य करती है

ADVERTISEMENT

अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी के दो बेटे भी हैं महाराज जी की उम्र 32 साल की है परंतु बचपन से ही उनके माता-पिता के द्वारा इन्हें आध्यात्म मार्ग पर जोड़ा जा चुका था तभी से यह कथावाचक करवाते रहे हैं और हमेशा यह भक्ति भाव में ही नहीं रहते हैं दूसरों को भगवान की कथा सुनाना और दूसरों से भगवान की कथाओं को चुनना ही इन्हें भाता है।

ADVERTISEMENT

जो लोग अपने जीवन को गलत दिशा दे चुके हैं और गलत राह पर जा रहे हैं महाराज जी के द्वारा उन्हें सही मार्ग भी दिखाया जाता है और समय-समय पर उनका मार्गदर्शन किया जाता है महाराज जी के प्रवचन सुनने लाखों की संख्या में लोग अलग-अलग जगहों से आते हैं और अपनी सभी समस्याओं का निवारण भी प्राप्त कर जाते हैं।

ADVERTISEMENT

aniruddhacharya ji maharaj net worth

अनिरुद्ध आचार्य महाराज जी की नेटवर्क के अगर हम बात करें तो इनकी साल भर की नेटवर्क 4 से 5 करोड़ रुपए है और यह सभी राशि इन्हे दक्षिणा के रूप में ही प्राप्त होती है

ADVERTISEMENT

aniruddhacharya ji maharaj Youtube Videos

Last Words

आज आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी काफी पसंद आई होगी जहां मैंने आज आपको, Aniruddhacharya Ji Maharaj Fees के बारे में जानकारी दी है और इसी के साथ यदि आपका हमारे इस पोस्ट से संबंधित किसी भी तरह का कोई सवाल या फिर सुझाव है तब आप हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से बता सकते हैं हम आपके सभी कमेंट के जवाब अगले दिन देंगे जहां अगले दिन आकर आप अपने कमेंट के जवाबों को पढ़ सकते हैं।

ADVERTISEMENT

Leave a Comment