ADVERTISEMENT

Premchand Ka Janm Kab Hua Tha (प्रेमचंद का जन्म कब हुआ था) – 2022

ADVERTISEMENT

Premchand Ka Janm Kab Hua Tha: नमस्कार दोस्तो आपका हमारे एक और नए पोस्ट पर स्वागत है जहा आज हम आपने इस पोस्ट के माध्यम से “प्रेमचंद का जन्म कब हुआ था” के बारे में जानकारी देने जा रहे है। यदि आप प्रेमचंद जी के बारे में एक दम विस्तार से जानना चाहते है तब आप एक दम सही पोस्ट के आए है। जहा आपको हमारे इस नए पोस्ट के माध्यम से मुंशी प्रेमचंद के बारे में सभी जानकारी विस्तार से पढ़ने को मिलेगी।

ADVERTISEMENT

वैसे हमारे देश भारत में एक से बढ़कर एक कवि और रचनाकार हुए परंतु कुछ रचनाकार ने अपनी रचनाओं के माध्यम से अपनी एक अलग ही छाप छोड़ी है जहा उन्हे आज भी लोगो के द्वारा याद किया जाता है। अब में मुंशी प्रेमचंद जी का नाम न आए ऐसा हो ही नही सकता क्युकी प्रख्यात कवियों में इनका भी नाम शामिल है

ADVERTISEMENT

जहा इन्होंने मानव जीवन को झांझोड़ कर रख देने वाले कई उपन्यास लिखे। तो चाहिए जल्दी से बिना समय गवाएं प्रेमचंद जी के बारे में जानने की कोशिश करे है। और हमारे इस पोस्ट को शुरू करते है।

ADVERTISEMENT

Premchand Ka Janm Kab Hua Tha (प्रेमचंद का जन्म कब हुआ था)

Premchand Ka Janm Kab Hua Tha

प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1880 को लमही, वाराणसी, उत्तर प्रदेश, स्थान पर हुआ था इसके अलावा अतिरिक्त जानकारी आप नीचे दी गई सूचि में देख सकते है।

ADVERTISEMENT

जन्म31 जुलाई 1880
लमही, वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु8 अक्टूबर 1936 (उम्र 56)
वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत
व्यवसायअध्यापक, लेखक, पत्रकार
राष्ट्रीयताभारतीय
अवधि/कालआधुनिक काल
विधाकहानी और उपन्यास
विषयसामाजिक और कृषक-जीवन
साहित्यिक आन्दोलनआदर्शोन्मुख यथार्थवाद (आदर्शवाद व यथार्थवाद)
,अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ
उल्लेखनीय कार्यगोदान, कर्मभूमि, रंगभूमि, सेवासदन, निर्मला और मानसरोवर

प्रेमचंद का जन्म कहाँ हुआ था ?

प्रेमचंद का जन्म लमही, वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था

ADVERTISEMENT

प्रेमचंद की जीवन अवधि क्या थी?

प्रेमचंद की जीवन अवधि साल रही है

ADVERTISEMENT

प्रेमचंद की मृत्यु कैसे हुई?

प्रेमचंद की मृत्यु समयरूप से ही हुई थी और इन्होने अपने जीवन कल में से बढ़कर एक रचनाये की है जिसके कारन आज भी इन्हे लोगो के द्वारा याद किया जाता है

ADVERTISEMENT

प्रेमचंद कौन सी भाषा लिखते हैं?

प्रेमचंद जी अपनी रचनाओं में हिंदी और उर्दू दोनों ही भाषाओ का उपयोग किआ करते थे जहा हर शब्द का उपयोग वह एक अलग ही ढंग से किया करते थे और उनकी रचनाये आज भी काफी प्रचलित है जो नए नए लेखक को अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करती है

ADVERTISEMENT

प्रेमचंद को प्रेमचंद नाम किसने दिया?

प्रेमचंद जी के मुंशी प्रेमचंद बनने का सफर कुछ इस तरह से है जहा एक बहुत बड़े विद्वान जिनका नाम कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी था और इन्होने महात्मा गाँधी जी के साथ एक पत्रिका निकली जहा उस पत्रिका का नाम हंस रखा गया था और उस पत्रिका का संपादन प्रेमचंद और कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी के द्वारा किया जाता था

ADVERTISEMENT

जहा कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी प्रेमचंद जी से उम्र में करीब सात साल बड़े थे और दोनों का नाम उस पत्रिका पर डाला जाता था जहा कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी उम्र के बड़े होने के कारन इनका नाम प्रेमचंद के नाम के आगे लिखा जाता था और ऐसे इन दोनों का नाम मुंशी प्रेमचंद लिखा जाने लगा बस तब से ही प्रेमचंद जी के नाम के आगे मुंशी लगने लग गया और ऐसे इनका नाम मुंशी प्रेमचंद पड़ गया

ADVERTISEMENT

प्रेमचंद की सर्वश्रेष्ठ कहानी कौन सी है?

प्रेमचंद जी की सर्वश्रेठ कहानी गोदान है जिसके संक्षिप्त विवरण को आप नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से पढ़ सकते है जिससे आपको गोदान के बारे में कुछ जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

ADVERTISEMENT

इसके अलावा आप मुंशी प्रेमचंद जी से सम्बंधित कुछ अन्य FAQs को भी पढ़ सकते है

ADVERTISEMENT

  1. प्रेमचंद का जन्म कहाँ हुआ था ?प्रेमचंद का जन्म लमही, वाराणसी, उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था
  2. प्रेमचंद की जीवन अवधि क्या थी?प्रेमचंद की मृत्यु समयरूप से ही हुई थी और इन्होने अपने जीवन कल में से बढ़कर एक रचनाये की है जिसके कारन आज भी इन्हे लोगो के द्वारा याद किया जाता है

अंतिम शब्द

आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको प्रेमचंद का जन्म कब हुआ था के बारे में जानकारी देने की कोशिश की है जहा मुझे उम्मीद है आपको मेरे द्वारा दी गई जानकारी काफी पसंद आई होगी और इसी के साथ आपको कुछ नया सीखने को भी मिला होगा

ADVERTISEMENT

यदि आपका हमारे इस पोस्ट से संबंधित किसी तरह का कोई सवाल है या फिर सुझाव है तब आप हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से बता सकते है । जहा हम आपके सभी कमेंट के जवाब अगले दिन हमारी वेबसाइट के पब्लिश करेंगे।

ADVERTISEMENT