Russia-Ukraine Crisis: जहां एक ओर ग्लोबल स्टॉक और यूएस बॉन्ड यील्ड में गिरावट आई है, वहीं डॉलर, सोना और तेल की कीमतों में तेजी दर्ज की गई है,

क्योंकि निवेशक कथित सुरक्षित-एसेट्स पर दांव लगाना बेहतर समझ रहे हैं। क्योंकि निवेशक कथित सुरक्षित-एसेट्स पर दांव लगाना बेहतर समझ रहे हैं।

Russia-Ukraine Crisis: रूस और यूक्रेन (Russia-Ukraine War) के बीच तनाव चरम पर है। रूसी सेना द्वारा यूक्रेन के कई शहरों में मिसाइलें दागने और उतारने के बाद, दुनियाभर में यह स्पष्ट हो गया है

कि दोनों देश युद्ध के लिए अपनी कमर कस चुके हैं। यही कारण है कि Bitcoin गुरुवार को एक महीने में अपने सबसे निचले स्तर पर आ गया है।

समाचार एजेंसी Reuters की रिपोर्ट में जानकारी दी गई है कि रूस और यूक्रेन के बीच चल रही लड़ाई ने क्रिप्टो मार्केट, खासकर कि बिटकॉइन पर गहरा असर डाला है।

रिपोर्ट बताती है कि 7.9 प्रतिशत की गिरावट के साथ आज दुनिया की सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी 34,324 डॉलर (करीब 25.97 लाख रुपये) पर आ गई, जो 24 जनवरी के बाद से सबसे कम है।

बिटकॉइन ही नहीं, कई altcoins पर भी दोनों देशों के बीच इस तनाव का बुरा असर पड़ा है। दुनिया की दूसरी सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी Ether ईथर भी आज 10.8 प्रतिशत तक की गिरावट के साथ ट्रेड हो रहा था।

रिपोर्ट कहती है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूस-यूक्रेन के बीच चल रहे तनाव के लिए कहा है कि हमलों के बाद अमेरिका और उसके सहयोगी रूस पर "गंभीर प्रतिबंध" लगाएंगे।

यूरोपीय यूनियन के विदेश मामलों के प्रमुख जोसेप बोरेल ने भी ब्लॉक द्वारा लगाए गए सबसे कठिन वित्तीय प्रतिबंधों का वादा किया है।

NATO देशों की तरफ से आए गंभीर बयानों के चलते दुनियाभर में तनाव है और इसका असर न केवल पश्चिमी देशों, बल्कि एशियाई देशों पर भी दिखाई दे रहा है।

रिपोर्ट आगे बताती है कि जहां एक ओर ग्लोबल स्टॉक और यूएस बॉन्ड यील्ड में गिरावट आई है, वहीं डॉलर, सोना और तेल की कीमतों में तेजी दर्ज की गई है,